Kohinoor Hira || स्यमंतक मणि का इतिहास

ghanshyam kumawat
6 Min Read
Kohinoor Hira || स्यमंतक मणि का इतिहास

Kohinoor Hira || स्यमंतक मणि का इतिहास

कोहिनूर हीरा न केवल एक महान रत्न है, बल्कि इसकी कहानी और इतिहास भी दर्शाते हैं कि यह रत्न कितनी महत्त्वपूर्ण और आध्यात्मिक धरोहर है। इसकी मांग और इसे घेरे गए विवाद भी इसे और भी महत्त्वपूर्ण बनाते हैं।

अपनी शक्तिशाली कहानी और उसके इतिहास में भरी उपस्थिति के साथ, कोहिनूर हीरा आज भी लोगों की ध्यान आकर्षित करता है। इसकी विवादित संघर्ष और अनमोलता ने इसे एक अनूठी पहचान दी है जो समय के साथ न बर्दाश्त होती है।

कोहिनूर हीरा, जो अपनी शक्ति और उपयोगिता के लिए प्रसिद्ध है, आज भी एक अनमोल विरासत के रूप में स्मरणीय है। इस रत्न का इतिहास और उसकी कहानी हर व्यक्ति को अपनी महत्त्वपूर्णता का एहसास कराती है।

Kohinoor Hira || स्यमंतक मणि का इतिहास
Kohinoor Hira || स्यमंतक मणि का इतिहास

History of Kohinoor Hira

5000 वर्ष पहले खोजा गया था, और इसे स्यमंतक मणि के नाम से जाना जाता था। हिंदू कथाओं में इसे भगवान श्रीकृष्ण और जामवंत के संबंध में भी जाना जाता है।

स्थापना Kohinoor Hira 

कोहिनूर हीरा एक ऐतिहासिक रत्न है जिसका नाम सूर्य की प्रतिमा को छोड़कर ‘अनंत लक्ष्मी’ यानी अविनाशी धन के रूप में जाना जाता था। इस हीरे को एक माध्यमिक कालीन भारतीय कथाओं और इतिहास में दर्शाया गया है जहां इसे ‘समंतक मणि’ के नाम से जाना जाता था।

Kohinoor Hira की कहानी

इस हीरे की कहानी द्वापर युग से है। इसका नाम नादिरशाह ने रखा था, परंतु पहले यह ‘स्यमंतक मणि’ था। यह मणि भगवान सूर्य की आराधना में मदद करने के लिए दिया गया था।

कोहिनूर की उत्पत्ति Kohinoor Hira 

कहानी के अनुसार, भगवान श्रीकृष्ण ने इस मणि को स्वयं जाम्वंत से प्राप्त किया था जिनकी पुत्री जामवंती ने बाद में श्रीकृष्ण से विवाह किया था।

द्वापर युग में घटित घटनाएँ

एक बार जरासन्ध के आक्रमण के कारण श्रीकृष्ण समुद्र के मध्य नगरी बसाकर रहने लगे। इसी नगरी का नाम आजकल द्वारिकापुरी है। सत्राजित नामक व्यक्ति ने सूर्यनारायण की आराधना की, जिससे उन्हें स्यमन्तक मणि मिला।

इस मणि के मामले में घटी घटना में, जब प्रसेनजित इसे श्रीकृष्ण को नहीं देकर अपने भाई पर दे दिया, श्रीकृष्ण ने इसे पाने की इच्छा व्यक्त की। प्रसेनजित ने इसे श्रीकृष्ण को नहीं देकर अपने भाई प्रसेनजित को दे दिया। इसके बाद हुए घटनाक्रमों में, जामवंत के बेटे ने शेर को मारा और मणि को संदिग्ध चिह्नों के साथ जामवंत की गुफा में छिपा दिया।

इस मणि के लिए हुई लड़ाई में कई कथाएं हैं। बाद में इसे कई राजाओं ने हासिल किया और अंततः ब्रिटेन ने इसे अपनाया।

कोहिनूर का अब तक का संरक्षण Kohinoor Hira

कई देशों ने इस हीरे की वापसी की मांग की, परंतु इसमें सफलता नहीं मिली। भारत और पाकिस्तान ने भी इसकी मांग की, परंतु यह हीरा अब भी ब्रिटेन में है।

Kohinoor Hira का सफर: विश्व भर में बदलता हुआ दारूपयमान

कोहिनूर का सफर उसके अद्वितीयता और महत्त्व की कहानी है। यह हीरा 1304 में मालवा के शासक महलाकदेव के पास पहुंचा और इसके बाद मुगल साम्राज्य के पास रहा।

1739 में इरानी शासक नादिर शाह ने इसे हासिल किया और अhttps://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%B5%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%9F%E0%A5%8B%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BEपने साथ ले गया। इसके बाद कोहिनूर नादिर शाह के पोते शाह रुख़ मिर्ज़ा के कब्जे में आ गया।

14 साल के शाह रुख़ मिर्ज़ा ने कोहिनूर को अहमद अब्दाली को सौंप दिया। अहमद अब्दाली इसे अपने साथ अफ़ग़ानिस्तान तक ले गया, जहां इसे उसके वंशजों के पास रखा गया।

ब्रिटेन ने 1849 में कोहिनूर को हासिल किया और महारानी विक्टोरिया के ताज का हिस्सा बनाया। 1976 में पाकिस्तान ने भी इसकी मांग की थी, लेकिन ब्रिटेन ने इसे खारिज़ कर दिया।

भारत और पाकिस्तान की मांग: कोहिनूर की वापसी

1953 में, स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद, भारत ने कोहिनूर की वापसी की मांग की, परंतु यह मांग इंग्लैंड ने अस्वीकार की। इसके बाद पाकिस्तान भी इसकी मांग की, जिसे ब्रिटेन ने खारिज कर दिया।

कोहिनूर हीरा विश्व की इतिहास में एक रोचक अध्याय है। इसका सफर उसकी महत्ता और अनुपमता की कहानी है। हमारे इतिहास में इसका महत्व न केवल एक रत्न के रूप में है, बल्कि यह हमारी संस्कृति और विरासत का हिस्सा है। कोहिनूर की कहानी हमें हमारे समृद्ध और विविध इतिहास को समझने का एक माध्यम प्रदान करती है।

इससे हम यह सिख सकते हैं कि मूल्यवान चीजें समय के साथ बदलती रहती हैं, लेकिन उनका महत्त्व हमारी संस्कृति और धार्मिक विचारधारा में अटूट बना रहता है। इसी तरह कोहिनूर हीरा हमें यह सिखाता है कि विश्वास, संघर्ष और प्रेम के साथ हर मुश्किल को पार किया जा सकता है।

निष्कर्षण

यह थी कोहिनूर हीरे की एक छोटी सी यात्रा, जिसमें हमने इस दुर्लभ और महत्त्वपूर्ण रत्न के महत्त्व को समझा। यह हीरा न केवल एक रत्न है, बल्कि एक महान इतिहास और संस्कृति का प्रतीक भी है जो हमारे इतिहास के महत्वपूर्ण हिस्से को दर्शाता है। इसकी मान्यता और दुनियाभर में इसे घेरने वाली गाथाएं हमें उसके अद्वितीय और महत्त्वपूर्ण स्थान की याद दिलाती हैं।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *