Brihadeshwara Temple || बिना नीव का मंदिर

ghanshyam kumawat
4 Min Read
Brihadeshwara Temple || बिना नीव का मंदिर

Brihadeshwara Temple || बिना नीव का मंदिर

मानव इतिहास में जब संस्कृति और तकनीकाें की चर्चा होती है, तो ऐसे अद्वितीय इमारतों का जिक्र करना अत्यंत महत्वपूर्ण होता है। इनमें से एक है तमिलनाडु का बृहदेश्वर मंदिर जो बिना किसी नींव के निर्माण का शानदार उदाहरण है।

भारत का ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक धरोहर तमिलनाडु में स्थित बृहदेश्वर मंदिर एक अद्वितीय और चमत्कारी संरचना है। इस मंदिर की विशेषताएँ, जिनमें इंजीनियरिंग की महत्ता और शिल्पकला का जादूगरी संगम दिखता है, हमें अचंभित करती हैं।

Brihadeshwara Temple || बिना नीव का मंदिर
Brihadeshwara Temple || बिना नीव का मंदिर

Brihadeshwara Temple की रहस्यमयी कहानी

इस मंदिर का निर्माण पृथ्वी को खोदे बिना किया गया था, यानी बिना किसी नींव के उभारा गया था। इसे पिछले 1000 वर्षों में 6 भूकंपों के झटकों का सामना करना पड़ा है, लेकिन यह आज भी अपने मूल स्वरूप में है।

Rameshwaram temple

Brihadeshwara Temple की  विशेषताएं 

1. इंटरलॉकिंग विधि का प्रयोग

Brihadeshwara Temple इंटरलॉकिंग विधि का इस्तेमाल करके बनाया गया है, जिसमें पत्थरों के बीच सीमेंट या किसी अन्य चिपकने वाले पदार्थों का उपयोग नहीं किया गया।

2. प्राचीनता और स्थिरता  Brihadeshwara Temple

इस मंदिर ने पिछले 1000 वर्षों में 6 भूकंपों का सामना करते हुए भी अपने मूल स्वरूप में बनाए रहने का गर्व किया है।

3. महान ऊंचाई और स्थिरता

216 फीट ऊंचे इस मंदिर ने अपने समय में दुनिया के सबसे ऊंचे मंदिर का दर्जा हासिल किया था।

4. शिखर की भारी वजन

मंदिर के शीर्ष पर स्थित शिखर का वजन 81 टन होने के बावजूद, यहां का निर्माण अद्भुत इंजीनियरिंग की एक शानदार उपलब्धि है।

Brihadeshwara Temple  का निर्माण

बृहदेश्वर मंदिर के निर्माण में 1.3 लाख टन ग्रेनाइट का प्रयोग किया गया था। यह ग्रेनाइट 60 किलोमीटर दूरस्थ स्थान से 3000 हाथियों द्वारा ले जाया गया था। इसमें पृथ्वी के खोदे बिना ही निर्माण का काम बड़ी विशेषता है।

तकनीकी चुनौतियाँ और मंदिर की महिमा

1. शिखर का वजन

आज की तकनीक में 81 टन वजन का शिखर उठाना कठिनाईयों से भरा काम होगा।

2. अनुप्रयोगी इंजीनियरिंग

बृहदीश्वर मंदिर के निर्माण में प्रयोग की गई इंजीनियरिंग का स्तर दुनिया के सात आश्चर्यों में से किसी भी आश्चर्य के साथ टकराता है।

अनूठी शिल्पकला: प्राचीनता का दस्ता

बृहदेश्वर मंदिर की शिल्पकला और इंजीनियरिंग विश्वस्तरीय हैं, जिसे दुनिया भर में स्तुति और सराहना मिली है। यह एक रोचक उदाहरण है जो बताता है कि हमारे पूर्वजों की संस्कृति में कितनी ऊंचाई थी।

बृहदेश्वर मंदिर की भविष्यवाणी

आज के तकनीकी युग में, जहाँ विज्ञान और तकनीक ने हमें नई ऊंचाइयों तक पहुंचाया है, बृहदेश्वर मंदिर एक अद्वितीय यादगार है जो हमें हमारी धरोहर के मौलिक महत्त्व को याद दिलाता है।

आधुनिक तकनीक और महानता की उपलब्धि

बृहदेश्वर मंदिर ने बिना नींव के निर्माण की अनूठी उपलब्धि हासिल की है। इसे दुनिया की उन महान इमारतों में गिना जाता है, जो आधुनिक तकनीकों के बावजूद भी अद्वितीय हैं। हमें इससे यह सिखने को मिलता है कि नए और पुराने तकनीकी तत्वों का संगम हमारे समाज को और भी विकसित और सुरक्षित बना सकता है।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *