acharya vidyasagar maharaj biography

Vivek vyas
5 Min Read
acharya vidyasagar maharaj biography

Acharya Vidyasagar Maharaj Biography

आचार्य विद्यासागर जी महाराज, महान जैन संत, का जन्म 10 अक्टूबर 1946 को हुआ था। उन्होंने गुरुकुल में गहरा अध्ययन करके आचार्य बनने का संकल्प लिया और संसार से परित्याग कर वैराग्य भावना में अपना जीवन बिताया। उनकी साधना और गुरुभक्ति ने उन्हें एक आदर्श संत बनाया।

acharya vidyasagar maharaj biography
acharya vidyasagar maharaj biography

आचार्य जी का बचपन – Acharya Vidyasagar Maharaj

Vidyasagar Maharaj  का जन्म कर्नाटक के बेलगाम जिले के एक छोटे से गांव में हुआ था। उनके पिता का नाम मल्लप्पा और माता का नाम श्रीमती था। उनका धार्मिक रूप से जुड़ाव उनके पिता के नाम मुनीम अली सागर के माध्यम से हुआ था।

Vidyasagar Maharaj  आचार्य जी की शिक्षा

श्री विद्यासागर जी महाराज की प्रारंभिक शिक्षा स्थानीय कन्नड़ माध्यमिक  स्कूल से हुई थी, लेकिन उनका आध्यात्मिक संजीवनी मिली जब वे मात्र 9 वर्ष के बालक थे और आचार्य श्री शांति सागर जी महाराज के प्रवचन सुनकर उनमें आध्यात्मिक रुचि जागी।

 साधना का संकल्प – आचार्य जी

युवा आचार्य श्री विद्यासागर जी ने ब्रह्मचर्य व्रत अंगीकार कर लिया और उनका संसार की माया से तात्पर्य रहा। उनकी आध्यात्मिक साधना और विचारधारा ने उन्हें जैन धर्म के सर्वोच्च संत बना दिया।

गुरुकुल में अध्ययन – Acharya Vidyasagar Maharaj

आचार्य श्री देशभूषण जी महाराज के शिष्य बनने के बाद, आचार्य जी ने ब्रह्मचर्य व्रत अंगीकार किया और गुरुकुल में गहरा अध्ययन किया।

 Vidyasagar Maharaj वैराग्य की भावना

आचार्य श्री विद्यासागर जी महाराज साधना में वैराग्य भावना ने उन्हें संसार के रहस्यों की सही समझ और आत्मा के महत्व की दिशा में बदल दिया। उन्होंने वैयाकरणिक शास्त्र, योग, और जैन दर्शन के क्षेत्र में अपनी ऊँची शिक्षा पूर्ण की।

 दीक्षा का अद्वितीय अनुभव – श्री विद्यासागर जी

आचार्य जी ने अपनी  साधना के फलस्वरूप  श्री ज्ञान सागर जी महाराज के पास पहुंचकर ब्रह्मचर्य व्रत अंगीकार किया और वहां एक वर्ष तक कठोर साधना की ।

संयम एवं साधना का अद्भूत पथ

 संयम एवं संतोष का सागर

सन् 1968 में, आचार्य श्री विद्यासागर जी ने लगभग 22 वर्ष की आयु में संयम का परिपालन करते हुए मत्रिक्षिण मंडली धरण कर संसार की सभी बाह्य वस्तुओं का परित्याग कर दिया। इस यात्रा में उन्होंने अद्वितीय तपस्या और संयम का प्रतीक्षण किया, जो उनके धार्मिक जीवन के अद्वितीय पहलुओं में से एक था।

 गुरुभक्ति में समर्पण

आचार्य जी ने गुरु सेवा में अपना जीवन गुजारा और उनके दीक्षित होने के बाद भी उनकी गुरुभक्ति में समर्पित रहा। उन्होंने गुरुवार श्री ज्ञान सागर जी महाराज की शिक्षा में रहकर धार्मिक ज्ञान की दिशा में अपने आत्मा को समर्पित किया।

आचार्य श्री विद्यासागर जी का आख़िरी संयंत्र

आचार्य श्री ज्ञान सागर जी के निर्देशन में संयम एवं तपस्या में विशेषज्ञ बनने के बाद, आचार्य श्री विद्यासागर जी ने उनके साथ सहयोग करते हुए साधना का अद्भूत पथ तय किया। उन्होंने गुरुवर श्री ज्ञान सागर जी की समाधि मरण हेतु ग्रहण किया और इस अद्वितीय संयंत्र में अपने गुरु को सहायता प्रदान की।

 विद्यासागर जी का आदृश जीवन

 विश्व में सर्वाधिक योगदान

आचार्य श्री विद्यासागर जी ने अपने जीवन में विश्व में सर्वाधिक योगदान देने का संकल्प किया। उनकी गुरुभक्ति, संयम, और साधना ने उन्हें एक आदर्श संत बना दिया जिनका योगदान आज भी हमारे समाज में महत्वपूर्ण है।

भक्तियों के प्रेरणा स्रोत

आचार्य श्री विद्यासागर जी ने भक्तियों को उनके जीवन से प्रेरित किया और उनका उदाहरण सदैव लोगों के मनोबल को बढ़ाता है। उनकी भक्तियाँ समाज में धर्म और सेवा की भावना को बढ़ावा देती हैं।  आचार्य विद्यासागर जी के  सत्संग और प्रेरणा से भरा जीवन एक उत्कृष्ट उदाहरण है।

भारत के महान संतों ओर वीर पुरुषों  के जीवन परिचय को जानने के लिए यहा क्लिक करे –

Shri Shri Ravishankar || एक आध्यात्मिक गुरु का जीवन परिचय

Premanand Ji Maharaj Biography in Hindi

Bageshwar dham ||धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जीवन परिचय

 

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *