Krishna janmashtami 2023,शुभ मुहर्त,कथा ओर पूजन विधि

Vivek vyas
4 Min Read

Krishna janmashtami 2023,शुभ मुहर्त,कथा ओर पूजन विधि

 

Krishna janmashtami 2023

इस बार बहुत महत्वपूर्ण रहने वाली है, सम्पूर्ण भारत मे Krishna janmashtami 2023 बहुत ही धूम धाम से मनाया जाता है श्री कृष्ण जिन्हे हम अचला, अच्युत,अनंता, बाल गोपाल,चतुर्भुज, दयालु, देवकीनंदन, द्वारकाधीश, गोपाल, गोविंदा,हरि, के नामों से जानते है , श्री कृष्ण के जन्म के दिवस को की हम कृष्ण जन्माष्टमी के रूप मे मनाते है |इस आर्टिकल मे हम कृष्ण जी के जन्म की कथा , कृष्ण जन्माष्टमी 2023 कब है ? , शुभमुहर्त , पूजन विधि के बारे मे जानेगे |

Janmashtami 2023 date  कृष्ण जन्माष्टमी कब है ? 2023  

कृष्ण जन्माष्टमी 2023 तिथि के अनुसार 6 सितंबर  से 7 सितंबर 2023 तक रहने वाली है क्योंकी श्री कृष्ण का जन्म रात 12 बजे हुआ था |

कृष्ण जन्माष्टमी की कथा – Krishna janmashtami 2023   

जन्माष्टमी की कहानी 

बहुत समय पहले मथुरा में कंस नाम का एक राजा था जो अपने लालच और अन्याय के लिए बदनाम बदनाम था अपनी बहन  की शादी वसुदेव से करने के बाद आसमान से  एक भविष्यवाणी हुई
देवकी और वासुदेव का आठवां पुत्र तुम्हारे अत्याचार का अंत करेगा यह सुन कर गुस्से मे कंस ने नवविवाहित जोड़े को कैद कर लिया एक के बाद एक कंस ने देवकी के 7 बच्चों को मार दिया जब आठवे  बच्चे का जन्म हुआ तो भविष्यवाणी की आवाज फिर से आई आवाज ने कहा इस बच्चे को यमुना नदी के पार ले जाओ और वहां पर अपने मित्र नंद और यशोदा की  संतान से बदल दो उनके हाथों की जंजीरे खुल गई  उन्होंने जल्दी से अपने बच्चे को उठाया और एक टोकरी में डाल कर चल पड़े सारे  दरवाजे खुल गए पेरेदार सो गए  सिर पर टोकरी लिए तूफानी नदी को पार किया तो पानी उनके कंधे से ऊपर नहीं उठा जब उन्हें परेशानी हुई तो एक 10 सिर वाले सांप में छतरी की तरह  बच्चे को बारिश से बचाया वसुदेव जी यह देख के आश्चर्य चकित रह गए
अपने बेटे को  जाकर नन्द जी ओर  यशोदा की बेटी के स्थान पर छोड़ के उनकी बेटी  को लेकर  लौट आए
कंस ने बच्चे को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की तो बच्चे ने देवी दुर्गा का रूप धारण कर लिया और
देवी ने कंस को कहा  देवकी का आठवां पुत्र जन्म ले चुका है और वह अपनी भविष्यवाणी पूरी करेगा  और आगे चलकर उन्होंने कंस को मारा श्री कृष्ण  अच्छाई की जीत का प्रतीक बन गए ओर  हम भारत भर में कृष्ण का जन्म यानी कि जन्माष्टमी के रूप मे मनाते है |
पढिए भारत के त्योहारों के बारे मे – 

कृष्ण जन्माष्टमी  2023 शुभ मुहर्त कब है ? मथुरा में जन्माष्टमी

श्री कृष्ण जन्माष्टमी सम्पूर्ण  भारत मे मनाई जाती है भगवान श्री कृष्ण का जन्म मध्य रात्री हुआ था | 7 सितंबर 2023 को कृष्ण जन्माष्टमी  का  मुहूर्त  रात को 12.00 बजे से 12.50 तक रहेगा आगे हम पूजा विधि के बारे मे जानेगे |

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *