Sri Ganganagar History

ghanshyam kumawat
10 Min Read

Sri Ganganagar History

Sri Ganganagar || राजस्थान का धान का कटोरा

राजस्थान के बीकानेर जिले में स्थित श्री गंगानगर जिला पूरे राज्य में सबसे ज्यादा धान और गेहूं उत्पादन करता है। इसलिए इसे ‘धान का कटोरा’ और ‘राजस्थान का पंजाब’ भी कहा जाता है। यह जिला प्राचीन समय में ‘रामनगर’ के नाम से जाना जाता था, लेकिन 1927 में गंग नहर के उद्घाटन के बाद बीकानेर के तत्कालीन महाराज गंगासिंह ने इसका नाम बदलकर ‘गंगानगर’ रख दिया।

Contents
Sri Ganganagar HistorySri Ganganagar || राजस्थान का धान का कटोरा भौगोलिक स्थिति गंग नहर का महत्व श्री गंगानगर के प्रमुख पर्यटन स्थल Sri Ganganagar visiting places लैला-मजनू की मजारअनूपगढ़ किला Sri Ganganagarगांव सिंधु घाटी सभ्यता के अवशेष गौरी शंकर मंदिर – Sri Ganganagar अन्य प्रमुख स्थल और आकर्षण हनुमान मंदिर बाबा रामदेव मंदिर – Sri Ganganagarबुड्ढा जोहड़ गुरुद्वारा प्रसिद्ध व्यक्तित्व और योगदानअवतार सिंह और जगजीत सिंह कृषि और पशुपालन – Sri Ganganagarअन्नदाता का कटोरापशुपालन और भेड़ पालन महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा और विकास गतिविधियां चक्का सुपर थर्मल पावर स्टेशन सिंचाई नहरेंपुष्प परीक्षण प्रयोगशाला श्री गंगानगर की पहुंच और यात्रा योजना सबसे अच्छा समय यात्रा के लिए यात्रा के विकल्प दूरियांश्री गंगानगर की संस्कृति और परंपराएं Sri Ganganagar culture लोक नृत्य और संगीत हस्तशिल्प और शिल्प कला त्योहार और उत्सव श्री गंगानगर की प्रमुख उद्योग और आर्थिक गतिविधियांकपड़ा और चीनी मिलेंव्यापारिक मेले और मंडियां पर्यटन उद्योग भविष्य की योजनाएं और चुनौतियां सिंचाई और जल प्रबंधन कृषि विविधीकरणशहरीकरण और बुनियादी ढांचे का विकासनिष्कर्ष

 भौगोलिक स्थिति

श्री गंगानगर जिला बीकानेर संभाग के अंतर्गत आता है और इसका क्षेत्रफल लगभग 10,978 वर्ग किलोमीटर है। यह जिला उत्तर में पंजाब के साथ 89 किलोमीटर की सीमा साझा करता है, जबकि पाकिस्तान से इसकी अंतरराष्ट्रीय सीमा लगभग 210 किलोमीटर है। Sri Ganganagar जिले का सबसे उत्तरी गांव झालावाली है।

 गंग नहर का महत्व

श्री गंगानगर जिले के विकास में गंग नहर की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। इस नहर को जिले की जीवन रेखा माना जाता है। गंग नहर के निर्माण से पहले यह क्षेत्र एक सूखे रेगिस्तान का हिस्सा था, लेकिन नहर के जरिए पंजाब और हिमाचल प्रदेश से पानी लाने के बाद यहां हरियाली आ गई।

 श्री गंगानगर के प्रमुख पर्यटन स्थल Sri Ganganagar visiting places

 लैला-मजनू की मजार

श्री गंगानगर जिले के अनूपगढ़ शहर से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर लैला-मजनू की मजार स्थित है। यह मजार प्रेम कथा ‘लैला-मजनू’ से जुड़ी है। प्रतिवर्ष यहां एक मेला आयोजित किया जाता है, जिसमें नवविवाहित जोड़े भी शामिल होते हैं।

अनूपगढ़ किला Sri Ganganagar

अनूपगढ़ शहर में स्थित अनूपगढ़ किला पाकिस्तान की सीमा के निकट है। यह किला भाटी राजपूतों द्वारा वर्ष 1689 में बनवाया गया था। इसकी भव्य संरचना और इतिहास के कारण यह आकर्षक पर्यटन स्थल बन गया है।

गांव सिंधु घाटी सभ्यता के अवशेष

अनूपगढ़ के राम सिंह पुत्र मार्ग पर स्थित गांव सिंधु घाटी सभ्यता के अवशेषों के लिए प्रसिद्ध है। इस गांव में कई ऐसी इमारतें हैं, जिनकी संरचना मिस्र की प्राचीन सभ्यता से मिलती-जुलती है।

 गौरी शंकर मंदिर – Sri Ganganagar

श्री गंगानगर जिले में स्थित गौरी शंकर मंदिर हिंदू धर्म के लिए महत्वपूर्ण आकर्षण केंद्र है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और इसकी खासियत ग्रह स्थिति है। इसके निर्माण में खास तरह की सामग्री का इस्तेमाल किया गया है।

 अन्य प्रमुख स्थल और आकर्षण

 हनुमान मंदिर

सूरतगढ़ के सरकारी कॉलेज के पास स्थित हनुमान मंदिर भक्तों के लिए आकर्षण का केंद्र है। हर मंगलवार और शनिवार को यहां भक्तों का तांता लगा रहता है। हनुमान जयंती पर यहां सामुदायिक रसोई का आयोजन किया जाता है।

 बाबा रामदेव मंदिर – Sri Ganganagar

सूरतगढ़ शहर में स्थित बाबा रामदेव का 300 साल पुराना मंदिर भी काफी लोकप्रिय है। इस मंदिर में एक लहर का पेड़ है, जिसकी जड़ें खोखली हैं लेकिन इसके पत्ते हरे रहते हैं। इन पत्तों को शरीर पर लगाने से दाद और खाज जैसी समस्याएं दूर होती हैं।

बुड्ढा जोहड़ गुरुद्वारा

सिख धर्म के बुड्ढा जोहड़ गुरुद्वारा श्री गंगानगर के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। यह गुरुद्वारा 17वीं शताब्दी की एक महत्वपूर्ण घटना को याद करने के लिए बनाया गया था।

 प्रसिद्ध व्यक्तित्व और योगदान

अवतार सिंह और जगजीत सिंह

Sri Ganganagar  जिले से निकले दो प्रमुख व्यक्तित्व हैं अवतार सिंह और जगजीत सिंह। अवतार सिंह माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली पहली भारतीय महिला थीं, जबकि गजल गायक जगजीत सिंह ने अपनी गजलों से दुनिया भर में अपनी अलग पहचान बनाई।

 कृषि और पशुपालन – Sri Ganganagar

अन्नदाता का कटोरा

श्री गंगानगर को ‘धान का कटोरा’ इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह जिला राजस्थान में सबसे ज्यादा धान और गेहूं का उत्पादन करता है। गजसिंहपुर कस्बे में राजस्थान की सबसे बड़ी कृषि मंडी स्थित है।

पशुपालन और भेड़ पालन

Sri Ganganagar जिले में पशुपालन और भेड़ पालन भी काफी महत्वपूर्ण है। यहां की भेड़ों की नस्ल पूरे भारत में प्रसिद्ध है।

 महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा और विकास गतिविधियां

 चक्का सुपर थर्मल पावर स्टेशन

सूरतगढ़ तहसील के चक्का गांव में स्थित सुपर थर्मल पावर स्टेशन राजस्थान का पहला सुपर पावर प्लांट और सबसे बड़ा लिग्नाइट आधारित बिजलीघर है। यह 1,500 मेगावाट बिजली उत्पन्न करता है।

 सिंचाई नहरें

श्री गंगानगर जिले में भाखड़ा नांगल बांध, घग्गर नदी, गंग नहर और इंदिरा गांधी नहर से सिंचाई की व्यवस्था है। इन नहरों के कारण ही यहां व्यापारिक मेलों और मंडियों की संख्या बढ़ी है।

पुष्प परीक्षण प्रयोगशाला

बीकानेर संभाग में राजस्थान की पहली पुष्प परीक्षण प्रयोगशाला श्री गंगानगर में ही स्थित है। यह प्रयोगशाला आयुर्वेदिक महाविद्यालय में स्थित है।

 श्री गंगानगर की पहुंच और यात्रा योजना

 सबसे अच्छा समय यात्रा के लिए

श्री गंगानगर की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय नवंबर से फरवरी तक का है, जब मौसम सुहावना रहता है।

 यात्रा के विकल्प

श्री गंगानगर तक पहुंचने के लिए आप बस, ट्रेन और हवाई मार्ग का उपयोग कर सकते हैं। सबसे निकटतम हवाई अड्डा अमृतसर का श्री गुरु रामदास अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है, जो लगभग 271 किलोमीटर दूर है। इसके अलावा, दिल्ली, हरिद्वार और अन्य प्रमुख शहरों से भी रेल और सड़क मार्ग से श्री गंगानगर की यात्रा की जा सकती है।

 दूरियां

श्री गंगानगर राजस्थान की राजधानी जयपुर से 469 किलोमीटर, भारत की राजधानी दिल्ली से 550 किलोमीटर, जोधपुर से 332 किलोमीटर, अजमेर से 498 किलोमीटर और चित्तौड़गढ़ से 738 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

श्री गंगानगर की संस्कृति और परंपराएं Sri Ganganagar culture

 लोक नृत्य और संगीत

श्री गंगानगर की संस्कृति में लोक नृत्य और संगीत की गहरी परंपरा है। यहां के लोग अपने त्योहारों और समारोहों पर विभिन्न लोक नृत्य करते हैं और लोक गीत गाते हैं। कच्छी घोड़ी, तेरह ताली और चंग नृत्य इस क्षेत्र के प्रमुख लोक नृत्य हैं।

 हस्तशिल्प और शिल्प कला

Sri Ganganagar के लोगों द्वारा बनाए जाने वाले कढ़ाई और बुनाई के काम काफी प्रसिद्ध हैं। यहां के हथकरघा उत्पादों में दुपट्टे, चादरें और बैग शामिल हैं। इसके अलावा, यहां की लकड़ी की नक्काशी और मिट्टी के बर्तन भी देखने लायक हैं।

 त्योहार और उत्सव

श्री गंगानगर के लोग दशहरा, दिवाली, होली, तीज, गणगौर और तेरा महिना जैसे त्योहारों को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। इन त्योहारों पर लोग नए कपड़े पहनते हैं, मिठाइयां बनाते और एक-दूसरे के घरों पर जाते हैं।

 श्री गंगानगर की प्रमुख उद्योग और आर्थिक गतिविधियां

कपड़ा और चीनी मिलें

श्री गंगानगर में कपड़ा और चीनी मिलें प्रमुख उद्योग हैं। यहां की कपड़ा मिलें न केवल राजस्थान बल्कि देश के अन्य हिस्सों में भी अपने उत्पाद बेचती हैं। चीनी मिलों में स्थानीय किसानों द्वारा उगाई गई गन्ना की प्रक्रिया की जाती है।

व्यापारिक मेले और मंडियां

गजसिंहपुर और जैतसर जैसे कस्बों में स्थित व्यापारिक मेले और मंडियां श्री गंगानगर की अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करती हैं। इन मंडियों में फसलें और पशुधन बेचे जाते हैं।

 पर्यटन उद्योग

Sri Ganganagar की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और प्राकृतिक सुंदरता ने यहां पर्यटन उद्योग को बढ़ावा दिया है। पर्यटक यहां के किलों, मंदिरों और अन्य दर्शनीय स्थलों को देखने आते हैं।

 भविष्य की योजनाएं और चुनौतियां

 सिंचाई और जल प्रबंधन

जलवायु परिवर्तन के कारण श्री गंगानगर में सिंचाई और जल प्रबंधन एक बड़ी चुनौती बन गई है। इसलिए, यहां नई नहरों और बांधों के निर्माण की योजनाएं बनाई जा रही हैं।

 कृषि विविधीकरण

श्री गंगानगर के किसान अब तक धान और गेहूं जैसी फसलों पर ही निर्भर रहे हैं। हालांकि, अब सरकार उन्हें मूंगफली, तिल और सरसों जैसी नई फसलों को उगाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है।

शहरीकरण और बुनियादी ढांचे का विकास

Sri Ganganagar के तेजी से बढ़ते शहरीकरण को देखते हुए, यहां के शहरों में बेहतर बुनियादी ढांचे की आवश्यकता महसूस की जा रही है। इसके लिए सरकार नई योजनाएं बना रही है।

निष्कर्ष

श्री गंगानगर राजस्थान का एक महत्वपूर्ण जिला है जो अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत, कृषि उत्पादन और पर्यटन आकर्षणों के लिए जाना जाता है। इस जिले ने पिछले कुछ दशकों में काफी विकास किया है, लेकिन भविष्य में और अधिक प्रगति की उम्मीद है।

Share This Article
Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *